शनिवार में भी 5 ट्रेन निरस्त, कई 13 घंटे तक हुई लेट | Jokhim Samachar Network

Thursday, June 13, 2024

Select your Top Menu from wp menus

शनिवार में भी 5 ट्रेन निरस्त, कई 13 घंटे तक हुई लेट

शनिवार में भी 5 ट्रेन निरस्त, कई 13 घंटे तक हुई लेट
रुड़की पटियाला (पंजाब) में चल रहे किसान आंदोलन की वजह से शनिवार को भी रुड़की, लक्सर, हरिद्वार रूट की 5 ट्रेनें, हरिद्वार से ऊना हिमाचल, ऊना हिमाचल एक्सप्रेस, श्रीगंगानगर से ऋषिकेश व ऋषिकेश से श्रीगंगानगर, इंटरसिटी एक्सप्रेस और अमृतसर से हरिद्वार व हरिद्वार से अमृतसर जनशताब्दी एक्सप्रेस को रेल मुख्यालय ने रद कर दिया। आंदोलन के कारण इस रूट की करीब बीस गाड़ियां कई घंटों की देरी से भी चली। भागलपुर से जम्मूतवी, अमरनाथ एक्सप्रेस सबसे अधिक 13 घंटे लेट हुई, जबकि जयनगर से अमृतसर, क्लोन स्पेशल 11 घंटे, सहरसा से सरहिंद, सरहिंद स्पेशल तथा न्यू जलपाईगुड़ी से अमृतसर, क्लोन एक्सप्रेस 10-10 घंटे की देरी से प्लेटफॉर्म पर पहुंची। गाजीपुर सिटी से श्रीमाता वैष्णो देवी कटरा, वीकली स्पेशल 9 घंटे, जम्मूतवी से वाराणसी, बेगमपुरा एक्सप्रेस 8 घंटे, कानपुर सेंट्रल से जम्मूतवी सुपरफास्ट तथा कोलकाता से जम्मूतवी स्पेशल एक्सप्रेस 7-7 घंटे लेट आई।जयनगर से अमृतसर, सरयू यमुना एक्सप्रेस तथा छपरा से अमृतसर, स्पेशल एक्सप्रेस 6-6 घंटे, जम्मूतवी से गोहाटी अमरनाथ एक्सप्रेस 5 घंटे, जम्मूतवी से कोलकाता, कोलकाता एक्सप्रेस 4.30 घंटे और योगनगरी ऋषिकेश से पुरी, कलिंग उत्कल एक्सप्रेस 2 घंटे लेट हुई। जबकि पुरैना कोर्ट से अमृतसर, जनसेवा एक्सप्रेस, अमृतसर से सहरसा, गरीब रथ एक्सप्रेस, गोरखपुर से देहरादून, राप्ती गंगा एक्सप्रेस, मुजफ्फरपुर से आनंद विहार टर्मिनस दिल्ली, गरीब रथ एक्सप्रेस तथा श्रीमाता वैष्णो देवी कटरा से गोहाटी स्पेशल एक्सप्रेस 1-1 घंटे की देरी से चली।इनके अलावा रुड़की, लक्सर, हरिद्वार होकर जाने वाली पुरैना कोर्ट से अमृतसर, जनसेवा एक्सप्रेस को अंबाला कैंट से साहनेवाल (पंजाब) रूट डायवर्ट कर चलाया गया। जयनगर से अमृतसर क्लोन एक्सप्रेस व सियालदह से अमृतसर जलियांवाला बाग एक्सप्रेस का रूट पुरानी दिल्ली से डाइवर्ट कर दोनो को सीधे लुधियाना भेजा गया। अमृतसर से कटिहार आम्रपाली एक्सप्रेस लुधियाना से डायवर्ट होकर पुरानी दिल्ली और बांद्रा मुंबई से श्रीमाता वैष्णो देवी कटरा, स्वराज स्पेशल एक्सप्रेस नई दिल्ली से डायवर्ट होकर लुधियाना के रास्ते चलाई गई।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *