वन अनुसंधान संस्थान में ‘वन अर्थशास्त्र’ पर प्रशिक्षण कार्यशाला 14 फरवरी तक | Jokhim Samachar Network

Tuesday, March 31, 2020

Select your Top Menu from wp menus

वन अनुसंधान संस्थान में ‘वन अर्थशास्त्र’ पर प्रशिक्षण कार्यशाला 14 फरवरी तक

देहरादून। वन अनुसंधान संस्थान, देहरादून के वन संवर्धन एवं प्रबंधन प्रभाग, द्वारा भारतीय अर्थशास्त्र सेवा के 2018 बैच के प्रशिक्षु अधिकारियों के लिए 10-14 फरवरी तक प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। प्रशिक्षण का विषय वन अर्थशास्त्र है। मानव जाति के लिए वन मूर्त और अमूर्त लाभ प्रदान करते हैं। मूर्त लाभों मैं इमारती  लकड़ी, ईंधन की लकड़ी, चारा और अकाष्ठ के वन उत्पाद हैं जो औसत दर्जे के हैं और लोगों द्वारा सीधे उपयोग किए जाते हैं। अमूर्त लाभ सीधे मापने योग्य नहीं हैं, जो वनों से स्रोतों के निष्कर्षण केबिना प्राप्त होते हैं और इन्हें दो श्रेणियों मं रखा जा सकता हैः पारिस्थितिक तंत्र सेवाएं जैसे मिट्टी और जल संरक्षण, जैव विविधता, और जलवायु मॉडुलनय तथा संरक्षण मूल्य जो उस मूल्य को संदर्भित करता है जो लोगों की अपनी वर्तमान स्थिति में वनों के संरक्षण हेतु होता हैं।
वनों के सुखद या सांस्कृतिक बहुत उपयोग हो सकते हैं  जैसे शिकार और मछली पकड़ना, तथा अप्रत्यक्ष रूप से भी वन बहुत महत्वपूर्ण हैं जैसे-अध्यात्मिक एवं विश्रांति के लिए पक्षियों को देखना। वन अर्थशास्त्र इस बात के विकल्पों के साथ अधिक गहरायी से कार्य करता है कि वनों का प्रबंधन और उपयोग कैसे किया जाता हैय कैसे वन  उत्पादन, उपयोगिता एवं संरक्षण के अन्य कारकों का उपयोग किया जाता हैय और क्या व  कितने वन उत्पादों का उत्पादन और विपणन किया जाता है। वन अर्थशास्त्र को वानिकी में अर्थशास्त्र के अनुशासित बनाने हेतु के निर्णय लेने पर लागू होता है और पूरे वन क्षेत्र को कवर करता है। उत्तर प्रदेश, पंजाब, झारखंड और उत्तराखंड के वन विभागों, आर्थिक वृद्धि संसथान  (इंस्टीट्यूट ऑफ इकोनॉमिक ग्रोथ), नई दिल्ली, केंदीय राज्य वन सेवा अकादमी, देहरादून, भारतीय वन्यजीव संस्थान तथा एफआरआई जैसे संस्थानों के मुद्दों पर प्रतिभागियों को जागरूक करने के लिए विशेषज्ञों द्वारा व्याख्यान दिए जाएंगे।  मोहंद में टिम्बर डिपो और राजाजी नेशनल पार्क के एक दिवसीय क्षेत्र दौरे का आयोजन प्रतिभागियों के लिए किया गया है। इस प्रशिक्षण का उद्धाटन निदेशक, वन अनुसंधान संस्थान, श्री ए.एस. रावत ने किया। उन्होंने प्रतिभागियों को वन अनुसंधान संस्थान और भारतीय वानिकी अनुसंधान और शिक्षा परिषद की संगठनात्मक संरचना के बारे में बताया। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि प्राकृतिक वनों को पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं और सुरक्षा प्रदान करने के लिए जीवित रखा जाना चाहिए। अधिकांश वन क्षेत्रों में प्राकृतिक वनों में केवल निस्तारण की अनुमति है। वाणिज्यिक और औद्योगिक लकड़ी की मांग वन (टीओएफ) के बाहर वृक्षों से पूरी की जानी चाहिए।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *