उत्तरकाशी मानदेय बढ़ाने सहित अन्य मांगों को लेकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का आक्रोश थमने का नाम नही ले रहा है। | Jokhim Samachar Network

Friday, April 19, 2024

Select your Top Menu from wp menus

उत्तरकाशी मानदेय बढ़ाने सहित अन्य मांगों को लेकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का आक्रोश थमने का नाम नही ले रहा है।

आं
उत्तरकाशी मानदेय बढ़ाने सहित अन्य मांगों को लेकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का आक्रोश थमने का नाम नही ले रहा है। शुक्रवार को आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने कलक्ट्रेट से लेकर बस स्टैंड तक जूलूस निकाला और गंगोत्री हाईवे जाम कर केन्द्र व राज्य सरकार का पुतला दहन किया। कार्यकर्ताओं ने कहा कि यदि जल्द मांगें पूरी नहीं की गई तो ओर उग्र आंदोलन करने को विवश होंगी। मानदेय बढ़ाने की मांग को लेकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका मिनी कर्मचारी संगठन के कार्यकर्ता गत 21 फरवरी से आंदोलित हैं। कार्यकर्ता कलकट्रेट परिसर में नियमित धरना प्रदर्शन कर सरकार से मांग पूरी करने की गुहार लगा रहे हैं। शुक्रवार को धरना-प्रदर्शन के बीच आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने मांगें पूरी न होने पर कलक्ट्रेट परिसर से बस स्टैंड तक जूलूस निकाला। इस दौरान सभी महिलाओं ने केन्द्र व राज्य सरकार के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। वहीं इसके बाद बस स्टैंड पर गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग को जाम कर केन्द्र और राज्य सरकार का पुतला दहन किया। करीब आधे घंटे तक हाईवे पर लगे जाम के कारण दोनो ओर वाहनो की लम्बी कतार लग गई और लोग जाम में फंसे रहे। संगठन की जिलाध्यक्ष विजय लक्ष्मी ने कहा कि सरकारी योजनाओं को धरातल पर उतारने का काम आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से करवाया जा रहा है, लेकिन कार्य के अनुसार मानदेय नहीं मिलता। उनकी मांग है कि न्यूनतम मजदूरी को देखते हुए 600 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से 18,000 रुपये मानदेय दिया जाए। सेवानिवृत्ति पर दो लाख रुपये दिए जाएं तो शेष जीवन अच्छे से व्यतीत कर सकें। कहा कि कई बार मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन कर चुकीं हैं। लेकिन सरकार उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दे रही है। कहा कि यदि समय रहते उनकी मांगों पर विचार नहीं किया गया तो वह लोक सभा चुनाव का भी बहिष्कार करेंगे। प्रदर्शनकारियों में विक्रमा भारती, बचना देवी, सुची राणा, कविता पंवार, उर्मिला गुसांई, परवीना, प्रकाशी भट्ट, ऊषा, विजय लक्ष्मी, शीला, सीमा राणा, बंसती देवी, सरिता पंवार, गीता गुसांई, बलमा देवी आदि मौजूद रहे।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *