उत्तराखण्ड आयुर्वेद विश्वविद्यालय उत्तराखण्ड के कार्यक्रम में स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने किया सहभाग  | Jokhim Samachar Network

Tuesday, January 25, 2022

Select your Top Menu from wp menus

उत्तराखण्ड आयुर्वेद विश्वविद्यालय उत्तराखण्ड के कार्यक्रम में स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने किया सहभाग 

ऋषिकेश। परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने उत्तराखण्ड आयुर्वेद विश्वविद्यालय, उत्तराखण्ड के कार्यक्रम सहभाग कर भावी चिकित्सकों को सम्बोधित किया। तत्पश्चात स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी और उत्तराखण्ड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो। डॉ। सुनील कुमार जोशी जी की लोकल आयुर्वेदिक औषधीयों के प्रचार-प्रसार को लेकर चर्चा हुई।
भारत के दो महान राजनीतिक युगपुरूषों का 25 दिसम्बर को जन्मदिवस हैं। भारत रत्न व भारत के अभूतपूर्व प्रधानमंत्री श्री अटलबिहारी वाजपेयी जी और आदर्श पुरूष महामना श्री मदन मोहन मालवीय जी दोनों युगपुरूषों के जन्मदिवस के पूर्व संध्या पर परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने आज प्रातःकाल विश्व शान्ति यज्ञ के पश्चात ‘परमार्थ निकेतन ग्लोबल स्कूल’ की स्थापना का मार्ग प्रशस्त किया। इस हेतु एक विशेष अंग का गठन किया। आज परमार्थ निकेतन ग्लोबल स्कूल व उत्तराखण्ड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के मध्य एक एमओयू पर हस्ताक्षर हुये। इसके अंतर्गत आयुर्वेद, योग, प्राकृतिक चिकित्सा, नेचुरोपैथी, मर्म चिकित्सा आदि विषयों को लेकर परमार्थ निकेतन में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रशिक्षण और चिकित्सा हेतु कार्यक्रमों का आयोजन किया जायेगा।
उत्तराखण्ड आयुर्वेद विश्वविद्यालय में जो कोर्स और चिकित्सा प्रकल्प चलाये जा रहे हैं उनका एक मॉडल सेंटर परमार्थ निकेतन में स्थापित किया जायेगा। आगामी मार्च को परमार्थ निकेेतन में अन्तराष्ट्रीय आयुर्वेद महासम्मेलन और निःशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया जायेगा जिसमें वैश्विक स्तर के 100 से अधिक आयुर्वेदाचार्य सहभाग करेंगे तथा इस अवसर पर आयुर्वेद संसद का आयोजन भी किया जायेगा।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि आयुर्वेद केवल चिकित्सा पद्धति नहीं बल्कि जीवन पद्धति है। आयुर्वेद स्वस्थ जीवन का आधार है तथा आयुर्वेद का युगों से अपना महत्व है। ‘ऋग्वेद’ भारतीय संस्कृति और जीवन पद्धति की सबसे प्राचीनतम रचनाओं में से एक है, जिसमें अश्विनी कुमारों को देव वैद्य कहा गया है। भारत में प्रचीन चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद का वर्णन चरक संहिता, सुश्रुत संहिता और अष्टांग संग्रह आदि कई संहिताओं में किया गया हैं।
आयुर्वेद का अर्थ है ‘जीवन का विज्ञान’ ‘दीर्घ आयु’ या आयु और वेद का अर्थ हैं ‘विज्ञान। आयुर्वेद के अनुसार जीवन के उद्देश्यों यथा धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष की प्राप्ति के लिये स्वास्थ्य का उत्तम होना नितांत आवश्यक है। आयुर्वेद तन, मन और आत्मा के बीच संतुलन स्थापित कर व्यक्ति के स्वास्थ्य में सुधार करता है। आयुर्वेद में न केवल उपचार होता है बल्कि यह जीवन जीने का ऐसा तरीका सिखाता है, जिससे जीवन स्वस्थ और खुशहाल होता है।
स्वामी जी ने कहा कि पैथी कोई भी हो परन्तु हृदय में सिम्पैथी और विचारों में पॉजिटिविटी होना नितांत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में प्राचीन चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद के पुनर्जागरण करना अत्यंत आवश्यक है। इस समय हमें लोकल के लिये वोकल बनना होगा और लोकल वस्तुओं को ग्लोबल तक पहुंचाना होगा। ये यात्रा बी लोकल फाॅर वोकल एंड बीकम ग्लोबल तक पहुंचानी होगी। पहाड़ी वस्तुयें जो लोकल है उसके लिये प्रत्येक व्यक्ति को वोकल होना होगा और ग्लोबल तक पहुंचाने के लिये प्रयत्न करना होगा। स्वामी जी ने कहा कि अपने मसाले, अपनी जड़ी-बूटियाँ, हल्दी, अदरक, सौफ, जीरा को ग्लोबल तक पहुंचाने हेतु वोकल होने की जरूरत है।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने डॉ। सुनील कुमार जोशी जी को रूद्राक्ष का पौधा भेंट कर माँ गंगा की आरती हेतु आमंत्रित किया।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *