बीइंग भगीरथ की जनता रसोई छठे दिन भी लगातार जारी रही | Jokhim Samachar Network

Monday, May 25, 2020

Select your Top Menu from wp menus

बीइंग भगीरथ की जनता रसोई छठे दिन भी लगातार जारी रही

हरिद्वार। सरकार द्वारा लॉकडाउन के बाद उपजे माहौल में हर कोई अपने घरो तक पहुंचने को बेताब है। तो कुछ असहाय,गरीब लोग जिनका पेशा ही था रोज कामना और रोज खाना। ऐसे लोगांे के सामने इस माहौल में खाने के लाले पड़ रहे है पर आज भी समाज में इंसानियत जिन्दा होने कारण कुछ लोग इन लोगो के लिए फरिस्ते बनकर उनके खाने का इंजाम करने में लगे हुए है। उसके तहत बीइंग भगीरथ द्वारा जनता रसोई का अथक प्रयास छठे दिन भी लगातार जारी रहा ।बीइंग भगीरथ के संस्थापक शिखर पालीवाल ने बताया की सरकार द्वारा जारी गये एमेरजेंसी सेवा के माध्यम से भी हम लोगों तक जरूरतमंदो के भी फोन आ रहे हैं।
टीम के स्वयंसेवकों ने जिला प्रशासन व अलग-अलग क्षेत्रों के अपने स्वयंसेवकों के सहयोग से लगभग 1500 पैकेट खाने का वितरण किया। हितेश चैहान व अमित जनगिड ने बताया कि  प्रधानमंत्री जी द्वारा किए गए 21 दिन के देशव्यापी लॉक डाउन के पहले ही दिन से बिंग भगीरथ जनता रसोई पूरे शहर भर के असहाय लोगों तक भोजन पहुंचा रही है इसी कड़ी में पहले दिन 200 पैकेट से शुरू हुआ यह सफर आज 1500 पैकेट तक पहुंच गया है आज टीम ने उन स्थानों पर भोजन पहुंचाया जहां पर कोई भी भोजन नहीं पहुंचा पा रहा। आज टीम ने गाजी वाली श्यामपुर कांगड़ी रावली महदूद वह सिडकुल के कुछ हिस्सों में जरूरतमंदों को भोजन मुहैया कराया। यह कार्य जनता के सहयोग से जनता के लिए पूर्ण लॉक डाउन समाप्त होने तक अनवरत चलता रहेगा। पंकज त्यागी व अभिनव ने बताया की हमारे शहर में काफी सारे लोग हैं जो अपनी आजीविका के लिए दिहाड़ी मजदूरी पर निर्भर है और लॉक टाउन के चलते उनके भविष्य पर एक प्रश्न चिन्ह सा लग गया है। राहुल गुप्ता ने बताया की बीइंग भगीरथ की पूरी टीम ने अपने स्वयंसेवकों व शहर के लोगों से मदद लेते हुए बीइंग भगीरथ जनता रसोई की शुरुआत की हमारी कोशिश हर उस व्यक्ति तक भोजन पहुंचाने की है जिसके आगे लॉक डाउन के चलते रोजी रोटी का संकट आ खड़ा हुआ है। इस मुहिम में नीरज शर्मा, अंकित शर्मा, मधु भाटिया, सहित सभी टीम के सदस्य निरंतर सहयोग कर रहे हैं ।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *