अल्मोड़ा  अस्पताल से राहत भरी खबर !! | Jokhim Samachar Network

Saturday, April 20, 2024

Select your Top Menu from wp menus

अल्मोड़ा  अस्पताल से राहत भरी खबर !!

अल्मोड़ा  अस्पताल से राहत भरी खबर है। अल्मोड़ा जिला अस्पताल में कूल्हे और घुटने के ऑपरेशन भी हो रहे हैं। अल्मोड़ा जिला अस्पताल में अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉ अविनाश कूल्हा प्रत्यारोपण, घुटना प्रत्यारोपण सहित अन्य हड्डियों से संबंधित ऑपरेशन कर रहे हैं। डॉ अविनाश ने बताया कि वह जिला अस्पताल में कूल्हा प्रत्यारोपण के दो ऑपरेशन कर चुके हैं। उन्होंने बताया कि हड्डी घिस जाने, एवैस्कुलर नेक्रोसिस, दुर्घटना मुख्य परिस्थतियां हैं जिनमें कूल्हे की हड्डी बदलने की आवश्यकता पड़ती है वह उनके ऑपरेशन कर रहे हैं। जिला अस्पताल में काफी समय से ऐसे डॉक्टर की आवश्यकता थी। डॉ अविनाश ने बताया कि अधिक उम्र में घुटने के कटोरे घिस जाना, दुर्घटना, रूमेटोइड गठिया आदि में जिनमें घुटना बदलने की जरुरत होती है तो वह ऑपरेशन से घुटना बदलते हैं। डॉ अविनाश नवंबर माह से जिला अस्पताल में नियुक्त हैं। जिला अस्पताल का नया ऑपरेशन थिएटर चालू होने के बाद कूल्हा प्रत्यारोपण का पहला ऑपरेशन किया है। उन्होंने बताया कि कूल्हा एवं घुटना प्रत्यारोपण के मरीज ऑपरेशन के 03-04 दिन बाद घर जा सकते हैं। आयुष्मान कार्ड धारकों को यह सुविधा निशुल्क है और उनका कोई खर्चा नहीं आता है, जबकि प्राइवेट अस्पतालों में यह ऑपरेशन एक लाख से अधिक का पड़ता है। डॉ अविनाश ने बताया कि वह मरीजों के घुटना प्रत्यारोपण के ऑपरेशन को तैयार हैं।
परीक्षाएं शांतिपूर्ण एवं शुचितापूर्वक संपन्न कराएं: जिलाधिकारी

10वीं एवं 12वीं की आगामी बोर्ड परीक्षाओं के शुचितापूर्ण आयोजन हेतु आज राजकीय बालिका इंटर कॉलेज अल्मोड़ा के सभागार में जिलाधिकारी विनीत तोमर की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई। बैठक में जिलाधिकारी ने संबंधितों को निर्देश दिए कि परीक्षाएं शांतिपूर्वक एवं शुचितापूर्वक आयोजित कराई जाएं। उन्होंने कहा कि इसके लिए सभी व्यवस्थाओं को सुनिश्चित किया जाए तथा उत्तराखंड बोर्ड के सभी नियमों का पालन किया जाए। परीक्षाओं के दौरान शांति व्यवस्था एवं अन्य पुलिस व्यवस्थाओं के संबंध में भी उन्होंने जरूरी दिशा निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। मुख्य शिक्षा अधिकारी एडी बलोदी ने बताया कि परिषदीय परीक्षाओं के आयोजन हेतु जनपद भर में 110 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। उन्होंने बताया कि  इन परीक्षाओं में 10 वीं के परीक्षार्थियों की संख्या 6913 हैं तथा 12 वीं के परीक्षार्थियों की संख्या 6115 है। बैठक में मुख्य शिक्षा अधिकारी एडी बलोदी, उपजिलाधिकारी सदर जयवर्धन शर्मा, माध्यमिक शिक्षा अधिकारी, केंद्र व्यवस्थापक समेत अन्य उपस्थित रहे।

बाड़ेछीना-बमन तिलाड़ी मोटर मार्ग के विस्तार की मांग
अल्मोड़ा  राज्य आंदोलनकारियों ने बाड़ेछीना-बमन तिलाड़ी मोटर मार्ग के गैराड़ बैंड तक विस्तार किए जाने की मांग मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर की है। पत्र में कहा गया है कि बाड़ेछीना-बमन तिलाड़ी मोटर मार्ग कुंज रतौड़ा तक बना है। गैराड़ बैंड से दिबटिया तक भी एक कच्ची सड़क का निर्माण किया गया है। इन दो सड़कों को मिला देने से यह मोटर मार्ग बाड़ेछीना क्षेत्र को गैराड़ बैंड में अल्मोड़ा बागेश्वर मोटर मार्ग से जोड़ देगा। इन दो सड़कों के बीच की दूरी मात्र कुछ सौ मीटर ही है किन्तु लोक निर्माण विभाग द्वारा वर्षों बाद भी इसे जोड़ने का प्रयास नहीं किया जा रहा है। इस मोटर मार्ग के बन जाने से धौलादेवी-भैसियाछाना विकास खंड की एक बड़े भूभाग में रहने वाली जनता को गैराड़ गोलज्यू मंदिर आने-जाने, ताकुला, बागेश्वर जाने के लिए एक अत्यंत नजदीकी मोटर मार्ग उपलब्ध हो जाएगा, इसलिए उक्त लिंक मार्ग के शीघ्र निर्माण के निर्देश लोक निर्माण विभाग को दिये जाने की मांग पत्र में की गई है। पत्र में ब्रह्मानन्द डालाकोटी, सदस्य सदस्य जिला पंचायत शिवराज बनौला, दौलत सिंह बगड्वाल के हस्ताक्षर हैं।
निर्वाचन संबंधी प्रशिक्षण आयोजित
अल्मोड़ा आगामी लोकसभा सामान्य निर्वाचन 2024 के सफल संपादनार्थ समस्त सहायक व्यय प्रेक्षकों, स्थैतिक निगरानी प्रभारियों, उड़न दस्ते में लगे कार्मिकों, वीडियो टीम, व्यय लेखा दलों को आज कलेक्ट्रेट सभागार में निर्वाचन संबंधी प्रशिक्षण दिया गया। इस दौरान सभी दलों को उनके कार्यों एवं आदर्श आचार संहिता के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई। भारत निर्वाचन आयोग एवं मुख्य निर्वाचन उत्तराखंड के निर्देशों का पालन करने तथा सभी दिशा निर्देशों का पालन करने के तरीके बताए गए। मुख्य कोषाधिकारी जगत मोहन जोशी ने उम्मीदवारों द्वारा खर्च किए जाने एवं उनके द्वारा किए जाने वाले सभी कार्यों पर निगरानी करने समेत अन्य जानकारियां प्रदान की।
दस दिवसीय सामुदायिक कार्यशाला का समापन
अल्मोड़ा सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय के शिक्षा संकाय में गुरुवार से आरंभ हुई दस दिवसीय सामुदायिक कार्यशाला का समापन मंगलवार को शैक्षिक भ्रमण के साथ हुआ। सामुदायिक कार्यशाला के शुरुआती दिनों में परिसर के प्रांगण में स्वच्छता कार्य, जागरूकता संबंधी विषयों पर पोस्टर निर्माण, पलायन, युवाओं में बढ़ती नशे की प्रवृत्ति व विलुप्त होती लोक संस्कृति जैसे विषयों पर आसपास के क्षेत्रों में सर्वेक्षण, क्रीड़ा दिवस का आयोजन, योगाभ्यास आदि कराया गया। एमएड प्रथम सत्रांश के छात्रों के लिए विकास में अभिव्यक्ति कार्यक्रम का आयोजन हुआ। सामुदायिक कार्यशाला के मुख्य अतिथि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो सतपाल सिंह बिष्ट के द्वारा संकाय की वार्षिक पत्रिका ‘सृजन’ का विमोचन किया गया। वहीं कार्यशाला का समापन सभी प्रशिक्षणार्थियों को चितई गोलू मंदिर, जागेश्वर धाम व झाँकर सैम मंदिर में शैक्षिक भ्रमण पर ले जाकर किया गया। शैक्षिक भ्रमण में प्रशिक्षणार्थियों ने केदारनाथ शैली में बने जागेश्वर धाम, अष्टधातु से बनी मूर्तियों, कत्यूर वंश, चंद्रवंश, मंदिरों के इतिहास, लोक संस्कृति आदि के बारे में जानकारी प्राप्त की। कार्यशाला के दिवसों में विभिन्न अतिथिगण, विभागाध्यक्ष प्रो भीमा मनराल, डॉ रिजवाना सिद्‌दीकी, डॉ संगीता पवार, डॉ ममता असवाल, डॉ. नीलम, डॉ ममता काण्डपाल, डॉ देवेन्द्र चम्माल, मनोज कुमार, अंकिता, विनीता लाल, ललिता रावल, सरोज जोशी व संकाय के समस्त प्रशिक्षणार्थी उपस्थित रहे।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *