परिसंपत्तियों के मामले में जनता को गुमराह न करे सरकारःउमा सिसोदिया | Jokhim Samachar Network

Saturday, February 27, 2021

Select your Top Menu from wp menus

परिसंपत्तियों के मामले में जनता को गुमराह न करे सरकारःउमा सिसोदिया

देहरादून । उत्तर प्रदेश से परिसंपत्तियों के कितने मामलों का निस्तारण हो चुका है, इस पर आम आदमी पार्टी ने सरकार से जानकारी मांगी है। उन्होंने सरकार से इस मामले में जनता को गुमराह नहीं करने की बात कही है।
प्रदेश प्रवक्ता विशाल चौधारी और उमा सिसोदिया ने एक प=कारों से वार्ता करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमं=ी योगी आदित्यनाथ और उत्तराखंड के मुख्यमं=ी त्रिवेंद्र सिंह रावत को परिसंपत्तियों के मामले में जनता को गुमराह ना कर सार्वजनिक तौर पर प्रेस के माधयम से जानकारी देनी चाहिये। आप प्रवक्ता उमा सिसोदिया ने कहा कि सूबे को बने 20 साल से ज्यादा हो गए हैं और इन 20 सालों में राज्य तमाम तरह की दिक्कतों से दो-दो हाथकर चलता आया है। लेकिन राज गठन के समय से लेकर अब तक परिसंपत्तियों का मुद्दा दोनों पार्टियों, बीजेपी और कांग्रेस के लिए एक निराशाजन रहा। जहां दोनों ही सरकारें 10 साल राज करने के बाद भी अपने उत्तराखंड के हक को नहीं दिला पाए। अलबत्ता कई मामले कोर्ट के जरिए विचाराधाीन और उम्मीद की किरण दिखाते जरूर हैं। ये दोनों ही पार्टियां कभी भी परिसंपत्तियों को लेकर इतना संजीदा नहीं दिखाई दी।
वहीं आप प्रवक्ता विशाल चौधारी ने कहा कि आज भी उत्तराखंड की करोड़ों रुपए की देनदारी उत्तर प्रदेश पर हैं। कई जमीने, कई विभाग और कई मामले के अधिाकार आज भी उत्तराखंड में होते हुए उत्तर प्रदेश के पास हैं। उत्तराखंड मूल के उत्तर प्रदेश के मुख्यमं=ी योगी के आने के बाद उत्तराखंड में भी बीजेपी सरकार होने के बाद और केंद्र में भी भाजपा की सरकार के बावजूद ट्रिपल इंजन को लेकर जो उम्मीद प्रदेशवासी के दिलों में जगी थी और लगा था कि इस बार परिसंपत्तियों को लेकर विवाद जरूर खत्म हो जाएगा लेकिन अपने दो दिवसीय दौरे पर आए योगी के बयान ने उन तमाम उम्मीदों को एक बार फि़र से तोड़ दिया है जिसे लेकर उत्तराखंड वासियों को ट्रिपल इंजन से उम्मीद थी।
उमा सिसोदिया ने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ कहते हैं कि अधिाकांश मामले सुलझा लिए गए तो आम आदमी पार्टी दोनों मुख्यमं=ी से सवाल पूछती है कि परिसंपत्तियों के जिन अधिाकांश मामलों को सुलझाने की बात कर रहे हैं उनको दोनों प्रेस के माधयम से सार्वजनिक करें। अगर 20 सालों में भाजपा कांग्रेस इन परिसंपत्तियों का निपटारा नहीं कर पाई। इससे बड़ी शर्म की बात उत्तराखंड के लिए और इन पार्टियों के लिए कुछ नहीं हो सकती है।
कहा कि उत्तर प्रदेश आवास विकास परिषद को उत्तराखंड सरकार की ओर से निर्बल आवास योजनाओं के अंतर्गत _ण समाधाान व _ण देनदारी का मसला, यूपी रिवॉल्विंग फ़ंड में उत्तराखंड के 13 जिलों की जिला पंचायतों की जमा धानराशि पर अर्जित ब्याज पर अभी तक सहमति नहीं बनी। उत्तर प्रदेश औद्योगिक विकास विभाग को अनुबंधा के अनुसार बकाया ब्याज के 15 करोड़ रुपये से अधिाक धानराशि पर अभी कोई निर्णय नहीं हुआ। तराई बीज एवं तराई विकास परिषद को उत्तर प्रदेश से 8-80 करोड़ रुपये की धानराशि पर सहमति नहीं हुई। लखनऊ जिला मुख्यालय और दिल्ली स्थित राज्य अतिथि गृह की परिसंपत्तियों का बंटवारा भी अभी तक लंबित है।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *