खेती, पशुपालन व हॉर्टिकल्चर हमारी अर्थव्यवस्था के स्तम्भः पुष्पेश त्रिपाठी | Jokhim Samachar Network

Wednesday, September 30, 2020

Select your Top Menu from wp menus

खेती, पशुपालन व हॉर्टिकल्चर हमारी अर्थव्यवस्था के स्तम्भः पुष्पेश त्रिपाठी

देहरादून। यूकेडी के पूर्व केंद्रीय अध्यक्ष पुष्पेश त्रिपाठी ने कहा कि खेती, पशुपालन व हॉर्टिकल्चर हमारी अर्थव्यवस्था के स्तम्भ हैं। जहाँ सरकारों ने लोगों को सशक्त करके उन्हें आत्मनिर्भर बनाना चाहिए था, आज वे सब बेरोजगारी, पलायन के लिए विवश हैं। बसभीड़ा, चैखुटिया विकासखंड के आम और लीची के बागान हैं। किसी समय में जब तराई छेत्रों (जुलाई-अगस्त) में जब आम का सीजन खत्म हो जाता था, तब मुरादाबाद से लोग यहां आम की फसल खरीदने आते थे। यह आम जो देर में पकता है, उसका आनंद लोग सितंबर, अक्टूबर तक लेते थे।
बगीचों की बुकिंग महीनों पहले से हो जाती थी। धीरे-धीरे सब खत्म हो गया। खेती, पशुपालन व हॉर्टिकल्चर हमारी अर्थव्यवस्था के स्तम्भ हैं, वह धीरे धीरे जंगली जानवरों के कहर से खत्म होते जा रहे हैं। सुअर व बंदरों की संख्या पहाड़ों में बढ़ती चली जा रही है, जो फसल की बर्बादी के लिए जिम्मेदार हैं। लोग साड़ियों, स्पीकरों का इस्तेमाल कर, फसल को बचाने की कोशिश कर रहे हैं पर सब व्यर्थ है। सरकार हजारों करोड़ रुपयों की स्कीम्स और पैकेज घोषित करती हैं। इतनी बड़ी रकम होने के बावजूद इसका एक प्रतिशत असर जमीन पर नही दिखता है। ऊपर से हालात बद से बदतर हो रहे हैं। जरूरी कृषि, हॉर्टिकल्चर और आर्थिक नीति का अभाव है कि हजारों करोड़ रुपये, बीच में ही गायब हो जाते है। सरकारों की योग्यता नही है कि वो काम करें, और फंड्स का सही उपयोग करें। साथ ही लोगों ने छोटी उलझनों में फसकर इन सब चीजों के बारे में सवाल करना छोड़ दिया है। हमारे, उक्रांद के 1994 के घोषणा पत्र में हमने 5000  करोड़ रुपए की एग्रीकल्चरल इकॉनमी की बात कही थी, तब यह माना जा रहा था कि उत्तराखंड कृषि के मामले में स्वयं पर निर्भर होने वाला राज्य होगा। पर समय के साथ आगे बढ़ने की बजाय हम बहुत पीछे आ गए हैं। आज गेहूं की छटाई के लिए शायद कम ही लोग बैलों का इस्तेमाल कर रहे हैं, क्योंकि ज्यादातर लोग खेती करना छोड़ चुके हैं। कुछ लोग ट्रैक्टर्स का इस्तेमाल कर रहे हैं और सरकार इनमें सब्सिडी भी दे रही है, पर ट्रेक्टर के लिए सब्सिडी का क्या फायदा जब फसल ही नही है। सुनने में सुअर, बंदरों का मुद्दा छोटा लगता है पर हर एक किसान इसका दर्द समझता है। आज हमारे राज्य में इनकम जनरेशन का कोई पुख्ता साधन नही है। जहाँ सरकारों ने लोगों को सशक्त कर के उन्हें आत्मनिर्भर बनाना चाहिए था, आज वे सब बेरोजगारी, पलायन के लिए विवश हैं। और आज 20 वर्षों के बाद भी हमारी सरकार हर चीज के लिए केंद्र पर निर्भर है। सरकारें मौन हैं क्योंकि उनकी नीयत नही है। सरकार से आग्रह है कि बड़ी-बड़ी घोषणाओं के साथ नीतियों पर भी काम हो ताकि उनका लाभ जमीनी स्तर पर दिख सके।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *