गददीस्थल ओंकारेज्वर मंदिर में विराजमान हुये बाबा केदार | Jokhim Samachar Network

Thursday, March 04, 2021

Select your Top Menu from wp menus

गददीस्थल ओंकारेज्वर मंदिर में विराजमान हुये बाबा केदार

रुद्रप्रयाग । द्वादश ज्योर्तिलिंगों में अग्रणी भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली बुधावार को पौराणिक परम्पराओं व रीति-रिवाजों के साथ शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मन्दिर में विराजमान हो गयी है। भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली के कैलाश से ऊखीमठ आगमन पर सैकड़ों श्र)ालुओं ने पुष्प वर्षा कर डोली का भव्य स्वागत किया, जबकि मराठा रेजिमेंट की बैण्ड धाुनों ने डोली की अगुवाई की तथा पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली के आगमन पर कई स्थानों पर भक्तों द्वारा डोली के साथ चल रहे श्र)ालुओं के लिए जलपान व्यवस्था की गयी। गुरुवार से भगवान केदारनाथ की शीतकालीन पूजा विधिावत ओकारेश्वर मन्दिर में शुरू होगी।
बुधावार को विश्वनाथ मंदिर गुप्तकाशी में केदारनाथ धााम के प्रधाान पुजारी शिव शंकर लिंग ने ब्रह्म बेला पर पंचाग पूजन के तहत भगवान केदारनाथ सहित तैतीस कोटि देवी-देवताओं का आवाहन किया तथा भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली की आरती उतारी। ठीक दस बजे भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली विश्वनाथ मन्दिर गुप्तकाशी से शीतकालीन गद्दीस्थल आेंकारेश्वर मन्दिर के लिए रवाना हुई तो बाबा केदार के जयकारों से विश्वनाथ मंदिर गुजायमान हो उठा। भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली के आगमन पर प्रेम सिंह नेगी, कुलदीप सिंह नेगी, सुभाष बिष्ट सहित कई श्र)ालुओं ने डोली के साथ चल रहे भक्तों के लिए जलपान व्यवस्था की तथा भैंसारी, विद्यापीठ, जैबरी पैदल मार्ग पर शिव भक्तों ने डोली का भव्य स्वागत किया। भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली के ऊखीमठ आगमन पर श्र)ालुओं ने पुष्प वर्षा कर डोली का भव्य स्वागत किया तथा डोली के शीतकालीन गद्दीस्थल आेंकारेश्वर मन्दिर मन्दिर पहुंचने पर श्र)ालुओं की जयकारों, मराठा रेजिमेंट, स्थानीय वाद्य यंत्रें की मधाुर धाुनों से ऐसा आभास होने लगा कि सम्पूर्ण देवलोक इसी धारती पर उतर आया हो। डोली के आगमन पर आेंकारेश्वर मन्दिर के प्रधाान पुजारी बागेश लिंग ने परम्परा के अनुसार डोली की आरती उतारी। भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली ने आेंकारेश्वर मन्दिर की एक परिक्रमा की तथा शीतकालीन गद्दीस्थल में विराजमान हो गयी है। पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली के शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मन्दिर में विराजमान होने के बाद रावल भीमाशंकर लिंग के प्रतिनिधिा केदार लिंग ने प्रधाान पुजारी शिव शंकर लिंग का छछ माह केदारपुरी में रहने का संकल्प तोड़ा।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *