बुराई पर अच्छाई की जीत माजरी में 32 फिट रावण का हुए दहन | Jokhim Samachar Network

Friday, November 27, 2020

Select your Top Menu from wp menus

बुराई पर अच्छाई की जीत माजरी में 32 फिट रावण का हुए दहन

डोईवाला (आसिफ हसन) दशहरे का त्यौहार बड़े धूम धाम से मनाया गया वहीं डोईवाला के माजरी ग्रांट में 32 फिट के रावण का दहन हुआ,

रावण की कहनी:रावण को लोग बुराई का प्रतीक मानते हैं, और उससे घृणा करते हैं। ये सच बात है कि उसमें राक्षस प्रवृत्ति कूट कूट कर भरी थी। लेकिन इसके बावजूद उसके अच्छाईयों को नकारा नहीं जा सकता है। रावण में अवगुण तो थे ही, लेकिन रावण में कई ऐसे गुण थे, जो उसे प्रकांड विद्वान बनाते हैं। रावण को वेद शास्त्र से लेकर, ज्योतिष विद्या का बहुत ही अच्छा ज्ञान था। उसे तंत्र मंत्र का भी भलि भांति ज्ञान था।और भगवान शंकर का बहुत ही बड़ा भक्त था। तो आइये जानते हैं रावण के बारे में कुछ दिलचस्प बातें रावणके जन्म की अलग अलग कहानियाँ हैं। विभिन्न पौराणिक कथाओं में रावण के जन्म को लेकर अलग अलग कथाएं हैं। वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण के अनुसार हिरण्याक्ष और हिरण्यकशिपु दूसरे जन्म में रावण और कुंभकर्ण के रूप में पैदा हुए। पौराणिक कथाओं के अनुसार ऋृषि मुनि भगवान विष्णु के दर्शन हेतु बैकुंठ गए थे, लेकिन भगवान विष्णु के दो द्वारपाल जय और विजय ने उन्हेें अंदर प्रवेश करने से मना

 

इसी बात से नाराज होकर ऋृषि मुनि ने शाप दे दिया और जय विजय को कहा कि तुम दोनों राक्षस हो जाओ। जय विजय समेत भगवान विष्ण ने भी ऋृषि मुनियों से इस अपराध के लिए माफी मांगी। जिससे ऋृषि मुनियों ने शाप की तीव्रता कम कर दी। और कहा कि तीन जन्मों तक तो तुम्हें राक्षस योनि में पैदा होना पड़ेगा। उसके बाद तुम इस पद पर पुनः प्रतिष्ठित हो पाओगे। साथ ही ऋृषि मुनियों ने ये शर्त रख दी की भगवान विष्णु के किसी भी अवतार के  हाथों तुम्हारा मरना जरूरी होगा। ओर हुआ वो ही रावण का अंत भगवान राम के हाथो हुआ।

माजरी ग्रांट में पहले रामलीला हुई फिर रावण का दहन हुआ, आयोजक सुमेंद्र कुमार ने बताया कि हम 12 सालो से गांव में रावण दहन कर रहे है पहले हम छोटा रावण बनाया करते है मगर अब हम बड़ा रावण बनाते है,हमें ये रावण बनाने में 3 दिन लगते है छोटे बच्चो के द्वारा सुंदर रामलीला हुई फिर रावण का दहन हुआ,सुमेंद्र कुमार ने कहा ही हम ग्राम प्रधान अनिल पाल,ओर कांग्रेस नेता मोहित उनियाल का धन्यवाद करते है जिन्होंने हमारा सहयोग किया,

इनकी टीम में सुमेंद्र कुमार,आर्यन,अमन बिष्ट,अभिषेक बिष्ट,आयुष यादव,दीपक बिष्ट, नंदिका बिष्ट,स्वाति चौधरी, श्रुति चौधरी, मनीषा चौधरी, सौरव पवार, कपिल, अकाश, हिमांशु आदि मौजूद रहे।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *