किसी प्रकार की भ्रांतियां नहीं, 2021 में ही होगा हरिद्वार में कुम्भ पर्व | Jokhim Samachar Network

Friday, November 27, 2020

Select your Top Menu from wp menus

किसी प्रकार की भ्रांतियां नहीं, 2021 में ही होगा हरिद्वार में कुम्भ पर्व

-एक हजार वर्ष में 85 बार हो चुके हैं 11वें वर्ष में कुम्भ पर्व

हरिद्वार । 2021 में होने वाले कुम्भ पर्व को लेकर कई प्रकार की भ्रांतियाॅं पैदा की जा रही है। ज्योतिषीय गणना के अनुसार इस बार 2022 के स्थान पर हरिद्वार कुम्भ 2021 में हो रहा है। इस सम्बन्ध में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत स्वामी हरि गिरि महाराज ने बताया कि वास्तविकता तो यह है कि हरिद्वार कुम्भ का योग देवताओं के गुरू बृहस्पति के कुम्भ राशि में संक्रमण करने पर बनता है। सामान्यतः माना जाता है कि बृहस्पति एक राशि में एक वर्ष रहता है और बारह वर्ष में घूमकर पुनः उसी राशि में पहुचता है। परन्तु वास्तविकता यह है कि बृहस्पति 4332.5दिनों या 11वर्ष 11महीने और 27दिनों में बारह राशियों की परिक्रमा पूरी करता है। इस तरह बारह वर्षो में 50.5दिन कम हो जाते है और यह कभी कभी बढ़ते-बढ़ते सातवें और आठवें कुम्भ के बीच एक वर्ष के लगभग हो जाती है। इसलिए हर आठवां कुम्भ 11वर्ष बाद होता है।
श्रीमहंत हरिगिरि के अनुसार हम पिछले 1000वर्षो का इतिहास देखे तो इन 1000 वर्ष में 85 कुम्भ हो चुके है। कुम्भ का मुख्य स्नान बृहस्पति सूर्य तथा चन्द्रमा की युति के चलते मेष संक्रान्ति को ही होेते है। यहां यह भी विशेष है कि सूर्य यानि मेष संक्रान्ति वर्तमान में प्रायः 14अप्रैल को होती है,परन्तु 1000वर्ष पूर्व यह 1अप्रैल को हुयी थी। फिर 1108 में 2 अप्रैल को रही। इसमें यह भी विशेष है कि 1 से 14अप्रैल तक सभी तारीखों में कुम्भ स्नान हुए,लेकिन 11 अप्रैल को कुम्भ स्नान कभी नही हुआ। उल्लेखनीय है कुम्भ में 12वर्ष होना कोई आवश्यक नही है बल्कि बृहस्पति का कुम्भ राशि में तथा सूर्य का मेष राशि में संक्रमण जरूरी है। इसी अमृत योग में कुम्भ स्नान की सनातन परम्परा है। पिछले एक हजार वर्षो की परम्परा देखी जाए तो इससे पूर्व 1760,1885,1938 के कुम्भ पर्व में 11वें वर्ष में हुए थे।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *