समूह ग,आर्मी, पुलिस की तैयारी कैसे करें-डॉ अफरोज इकबाल | Jokhim Samachar Network

Monday, January 25, 2021

Select your Top Menu from wp menus

समूह ग,आर्मी, पुलिस की तैयारी कैसे करें-डॉ अफरोज इकबाल

शहीद दुर्गा मल्ल राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय डोईवाला में एसोसिएट प्रोफेसर डॉक्टर अफरोज एकबाल का कहना है कि विद्यार्थीयों में तैयारी के प्रति काफी भ्रम है ।

विद्यार्थियों को सही मार्गदर्शन में एवं संतुलित तरीके से तैयारी करनी चाहिए । समूह ग की परीक्षा में विभिन्न विषयों से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं । अगर समूह ग के प्रश्नों को देखा जाए जो पूर्व में पूछे गए हैं तो हम पाते हैं कि इसमें सामान्य हिंदी तथा उत्तराखंड से संबंधित लगभग 30 से 40 प्रश्न रहते हैं और सामान्य ज्ञान अथवा सामान्य अध्ययन से 60 से 70 प्रश्न रहते हैं इसलिए विद्यार्थियों को इस तरह तैयारी करनी चाहिए कि कोई भी हिस्सा तैयारी से अछूता ना रहे ।विद्यार्थियों के लिए सामान्य अध्ययन के साथ-साथ सामान्य हिंदी एवं उत्तराखंड से संबंधित मूल प्रश्नों को देखना चाहिए ।अवधारणा स्पष्ट होनी चाहिए और साथ ही साथ पूर्व में पूछे गए प्रश्नों को भी प्रैक्टिस करते रहना चाहिए।
डॉ अफरोज इकबाल द्वारा अपने यूट्यूब चैनल कैरियर गाइड डॉक्टर अफरोज इकबाल पर सामान्य अध्ययन की बेसिक वीडियो जीके 1 से 105 वीडियो है जो सामान्य अध्ययन के लिए काफी है ।इसके साथ-साथ उत्तराखंड से संबंधित वीडियो का सेट उपलब्ध है और साथ ही साथ करेंट अफेयर से संबंधित भी वीडियो का सेट उपलब्ध है ।अगर इन सेट का सही प्रैक्टिस कर लिया जाए ,वैज्ञानिक तरीके से एक-एक करके तैयारी किया जाए तो विद्यार्थियों के लिए फायदेमंद होगा । इसी के साथ साथ जो विद्यार्थी आर्मी पुलिस की तैयारी कर रहे हैं वह भी अपने सामान्य ज्ञान या सामान्य अध्ययन को मजबूत करने के साथ-साथ करंट अफेयर्स और कुछ गणित के प्रश्नों को और सामान्य अंग्रेजी भी प्रैक्टिस करते रहना चाहिए।

डॉ अफरोज इकबाल का कहना है की समूह ग ,आर्मी ,पुलिस तथा अन्य तथा अन्य कंपटीशन की तैयारी में निरंतरता आवश्यक है ।विद्यार्थियों को चाहिए के समय के अनुशासन के साथ – साथ प्रत्येक दिन कुछ न कुछ वीडियो को लिखना चाहिए और याद करना चाहिए कुछ दिनों की पढ़ाई करने से और उसके बाद छोड़ देने से निरंतरता टूट जाती है अतः सफलता के लिए निरंतरता अत्यंत महत्वपूर्ण है । निरंतर प्रयास करने से आत्मविश्वास बढ़ता है । इसीलिए निरंतरता के साथ – साथ धैर्य को बनाए रखते हुए विद्यार्थियों को तैयारी करते रहना चाहिए ।यह सभी विद्यार्थियों के लिए मूल मंत्र है।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *