विशेष बातचीत | Jokhim News | Page 2

Monday, January 22, 2018

Select your Top Menu from wp menus
विशेष बातचीत
  • यह सन्नाटा सा क्यों है

    उत्तराखंड में सुलग रहा है कर्मचारी आन्दोलनों व जनपक्षीय मुद्दों पर विद्रोह का ज्वालामुखी उत्तराखंड के लगभ ...

    उत्तराखंड में सुलग रहा है कर्मचारी आन्दोलनों व जनपक्षीय मुद्दों पर विद्रोह का ज्वालामुखी उत्तराखंड के लगभग हर कोने में आंदोलन की सुगबुगाहट साफ सुनाई दे रही है और सरकारी तंत्र आंदोलनकारी संगठनों को नजर ...

    Read more
  • उम्मीदों के बावजूद

    सरकारी कामकाज की शैली में व्यापक फेरबदल किए बिना असंभव लगता है आम आदमी का विकास। नए साल में उत्तराखंड सरक ...

    सरकारी कामकाज की शैली में व्यापक फेरबदल किए बिना असंभव लगता है आम आदमी का विकास। नए साल में उत्तराखंड सरकार में व्यापक फेरबदल की संभावनाओं से इंकार नहीं किया जा सकता और न ही इस तथ्य को नकारा जा सकता ह ...

    Read more
  • जनपक्षीय नजरिये से

    तीन तलाक को लेकर कानून बनाने की ओर अग्रसर है केन्द्र की भाजपा सरकार। भारतीय लोकतंत्र में ऐसे अवसर कम ही द ...

    तीन तलाक को लेकर कानून बनाने की ओर अग्रसर है केन्द्र की भाजपा सरकार। भारतीय लोकतंत्र में ऐसे अवसर कम ही दिखाई पड़ते हैं जब देश की सर्वोच्च सत्ता पर विराजने वाली तथाकथित रूप से लोकतांत्रिक सरकारें धर्मन ...

    Read more
  • अलविदा-2017

    राजनैतिक बदलाव की दृष्टि से महत्वपूर्ण रहा वर्ष 2017। कलैण्डर के बदलते पन्नों के हिसाब से नये साल का आना ...

    राजनैतिक बदलाव की दृष्टि से महत्वपूर्ण रहा वर्ष 2017। कलैण्डर के बदलते पन्नों के हिसाब से नये साल का आना जीवन की एक साधारण प्रक्रिया है और विकास की रफ्तार में तेज भागते जा रहे मानव जीवन में साल दर कई ...

    Read more
  • विरोध के बढ़ते सुरों के बीच

    अपना महत्व खोती दिख रही हैं हमारी परम्पराएं, संस्कृति एवम् तीज-त्योहार। क्रिसमस के बाद नए साल को लेकर जनत ...

    अपना महत्व खोती दिख रही हैं हमारी परम्पराएं, संस्कृति एवम् तीज-त्योहार। क्रिसमस के बाद नए साल को लेकर जनता का उत्साह उफान पर है और इस तथ्य से इंकार नहीं किया जा सकता कि बाजारवादी मानसिकता पर टिके इस त ...

    Read more
  • गांवों को लीलते शहर

    आम आदमी के हित में नहीं कहा जा सकता स्थानीय निकायों का सीमा विस्तार। भारत एक ग्रामीण अर्थव्यवस्था वाला दे ...

    आम आदमी के हित में नहीं कहा जा सकता स्थानीय निकायों का सीमा विस्तार। भारत एक ग्रामीण अर्थव्यवस्था वाला देश है और सरकार द्वारा किए जाने वाले तमाम विकास संबंधी दावों के बावजूद इस तथ्य से इंकार नहीं किया ...

    Read more
  • आस्था पर कुठाराघात

    एक के बाद एक कर लगातार कई धर्मगुरूओं के बेनकाब होते चेहरों से समाज में अजीब डर का माहौल। इसे महिला सशक्ति ...

    एक के बाद एक कर लगातार कई धर्मगुरूओं के बेनकाब होते चेहरों से समाज में अजीब डर का माहौल। इसे महिला सशक्तिकरण के मुद्दे पर सरकारी दावों की धज्जियां उड़ना माना जाय या फिर सरकारी सख्ती का परिणाम लेकिन यह ...

    Read more
  • न्यायालय के नजरिये से

    चुनावी एजेंडे का मुख्य विषय होने के बावजूद भ्रष्टाचार व महंगाई जैसे मुद्दों पर साफ परिलक्षित हो रही है सर ...

    चुनावी एजेंडे का मुख्य विषय होने के बावजूद भ्रष्टाचार व महंगाई जैसे मुद्दों पर साफ परिलक्षित हो रही है सरकार की निष्क्रियता। कुछ ही समय पूर्व जब राजनैतिक भ्रष्टाचार को लेकर त्वरित अदालतें गठित किए जान ...

    Read more
  • परिसम्पत्तियों के बँटवारे के नाम पर

    सोषल मीडिया पर तेजी से चर्चाओं में हैं उत्तरप्रदेश के कुछ हिस्से को उत्तराखंड से मिलाने की सम्भावनाएं। उत ...

    सोषल मीडिया पर तेजी से चर्चाओं में हैं उत्तरप्रदेश के कुछ हिस्से को उत्तराखंड से मिलाने की सम्भावनाएं। उत्तराखंड राज्य को अस्तित्व में आये सत्रह साल से भी ज्यादा का समय हो चुका है और इन सत्रह सालों मे ...

    Read more
  • क्या है गैरसैण में

    उत्तराखंड राज्य के अस्तित्व में आने के बाद अस्थायी राजधानी देहरादून व इसके आसपास फली-फूली राज्य विरोधी ता ...

    उत्तराखंड राज्य के अस्तित्व में आने के बाद अस्थायी राजधानी देहरादून व इसके आसपास फली-फूली राज्य विरोधी ताकतें तथा कुछ धंधेबाज लोग अक्सर उठाते हैं यह सवाल। सुविधाओं के आभाव में पलायन को झेलते पहाड़ के ल ...

    Read more